Jyotiraditya Scindia : कांग्रेस में सियासी संतुलन बनाने में जुटे ज्योतिरादित्य सिंधिया

event ठ ॠ  लिठ  ठ मॠ ठ  परिणामJyotiraditya Scindia भोपाल। पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के चार दिन के दौरे के बाद मध्य प्रदेश कांग्रेस में राजनीतिक हलचल बढ़ी है। उनके इस दौरे में मध्य प्रदेश कांग्रेस के नेताओं तथा खुद सिंधिया ने गुटीय समीकरणों को भ्रामक प्रचार साबित करने का प्रयास किया। ज्योतिरादित्य सिंधिया के भोपाल प्रवास पर पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी भी उनके साथ सक्रिय दिखाई दिए। वहीं, सिंधिया ने न केवल अपने समर्थक दो मंत्रियों सहित अन्य नेताओं को समय दिया, बल्कि उन्होंने कमलनाथ सर्मथक मंत्री सुखदेव पांसे व पचौरी समर्थक मानी जाने वाली मंत्री डॉ. विजयलक्ष्मी साधौ के निवास पर पहुंचकर प्रदेश कांग्रेस के दूसरे खेमों में भी अपनी मौजूदगी दर्शाने की कोशिश की।


प्रदेश कांग्रेस कमेटी में अध्यक्ष और राज्यसभा की अप्रैल में रिक्त हो रही सीटों को लेकर पार्टी में घमासान मचा है। पीसीसी अध्यक्ष के लिए प्रदेश में पार्टी की सरकार बनने के बाद से ही चर्चा चल रही हैं, जबकि राज्यसभा में जाने के लिए भी अभी तक हाईकमान की ओर से किसी तरह के संकेत नहीं आए हैं। वहीं, विधानसभा चुनाव में ज्योतिरादित्य सिंधिया को चुनाव अभियान समिति का जिम्मा सौंपा गया था, लिहाजा सरकार बन जाने के बाद से उनके समर्थक अपने नेता को कोई महत्वपूर्ण जिम्मेदारी मिलने की आस लगाए हुए हैं। सिंधिया ने हाल ही के चार दिन के प्रदेश के दौरे के एक दिन पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी। इस मुलाकात को भी प्रदेश के समीकरणों पर हाईकमान द्वारा तेजी से किए जा रहे विचार से जोड़ा गया।


अकस्मात कार्यक्रम बदलकर पांसे-साधौ के बंगले पहुंचे


सिंधिया इस महीने अब तक दो दौरे कर चुके हैं और बुधवार को तीसरा दौरा भी है। 16 से 19 जनवरी के चार दिन के दौरे से प्रदेश में कांग्रेस की राजनीतिक सरगर्मी बढ़ी है। सिंधिया ने इस दौरे में गुटीय राजनीति की छाप से हटकर दूसरे नेताओं के समर्थकों से मेल-मिलाप कर सर्वमान्य नेता की छवि दिखाने की कोशिश की है। उन्होंने इसके लिए पूर्व निर्धारित कार्यक्रम से हटकर दूसरे नेताओं के यहां पहुंचकर कांग्रेसजन को चौंकाया। कमलनाथ समर्थक मंत्री सुखदेव पांसे और सुरेश पचौरी समर्थक मानी जाने वाली डॉ. विजयलक्ष्मी साधौ के सरकारी निवास पर जाने का उनका कोई कार्यक्रम नहीं था, लेकिन गुरुवार को वे होटल से निकलकर सीधे पांसे के यहां पहुंच गए। इसी तरह विदिशा से आने के बाद रविवार को वे डॉ. साधौ के निवास पर पहुंच गए थी।


पीसीसी में समर्थकों को पीछे रखा, अन्य नेताओं से मिले


सिंधिया ने अपने चार दिन के प्रवास में प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में पहुंचकर कार्यकर्ताओं से मिलने का कार्यक्रम बनाया था। यहां वे अपने समर्थकों के अलावा पार्टी के दूसरे नेताओं के समर्थकों से मिले। उन्होंने अपने समर्थकों को पीछे रखते हुए आम कार्यकर्ताओं के साथ मेल-मुलाकात की। विदिशा में स्थानीय विधायक के घर पहुंचकर उनका मान रखा। चार दिन के दौरे में वे भोपाल, इंदौर, विदिशा, चंदेरी, मुंगावली में शादी समारोहों व स्थानीय नेताओं से सौजन्य मुलाकात करने उनके निवास पर पहुंचे तो अपनी पार्टी के नेताओं के घरों में हुए शोक पर श्रद्धांजलि देने उनके घर भी पहुंचे।


Popular posts