सागर / चंद्रशेखर आजाद जहां डेढ़ साल रहे, अपने हाथाें से मंदिर, काेठरी बनाई; ‘नमस्ते ओरछा’ में उस सातार पार्क को भूल गई सरकार

पत्थर मिट्टी की इस शैया पर आजाद डेढ़ साल सोए थे। के लिए इमेज नतीजेसागर . पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार अगले महीने ‘नमस्ते ओरछा’ का आयोजन कर रही है। लेकिन स्थानीय प्रशासन से लेकर सरकार के नुमाइंदे ऐतिहासिक स्थान “सातार पार्क’ की सुध लेना भूल गए हैं। यहां शहीद चंद्रशेखर आजाद ने वर्ष 1924-25 में डेढ़ साल का अज्ञातवास काटा था। जानकाराें का कहना है कि नमस्ते ओरछा में इस जगह काे भी शामिल करना  चाहिए। कम से कम इस बहाने शहीद के हाथ से बनाई गई कोठरी व उनका पत्थर-मिट्‌टी से बना तकिया-पलंग भी सुरक्षित हो जाता। देशप्रेमियों के लिए यह स्थान किसी तीर्थ से कम नहीं है।


केवल पेवर ब्लॉक लगवा दिए, कोठरी को नहीं किया संरक्षित  
चंद्रशेखर आजाद ने ओरछा से 5 किमी दूर इस स्थान पर अकेले ही एक कुआं खोदा था। हनुमानजी का छोटा सा मंदिर और रहने के लिए एक कोठरी बनाई थी। कुछ दूरी पर एक सुरंग भी बनाई थी जो एक किमी आगे खुलती थी । इनमें से कुआं और मंदिर तो संरक्षित है। लेकिन बाकी दोनों स्थान जर्जर हैं। आजाद के अज्ञातवास के रूप में मशहूर इस स्थान के पास ही एक म्यूजियम कुछ वर्षों पहले बनाया गया है। जहां उनके जन्म स्थान भावरा गांव और शहादत वाले स्थान प्रयागराज की मिट्टी के कलश रखे गए हैं।


सन 1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने इसी परिसर में आजाद की प्रतिमा का अनावरण किया था। फिलहाल इस पार्क में पेवर ब्लॉक लगवा दिए गए हैं। आजाद यहां सन्यासी के भेष में रहे। उन्हें यहां लाने वाले स्थानीय स्वतंत्रता सेनानी मास्टर रूद्रनारायण ने उनका नाम ब्रह्मचारी हरिशंकर रख दिया। तब उनसे मिलने कई क्रांतिकारी यहां आए थे। ये सभी यहां आजाद के साथ मंत्रणा करते थे।


चूक तो हो गई, इसे भविष्य में सुधारेंगे


सातार पार्क के संबंध में चूक तो हुई है। इसे महोत्सव में शामिल किया जाना था। भविष्य में इस दिशा में काम करेंगे। अक्षयकुमारसिंह, कलेक्टर, निवाड़ी (ओरछा)

Popular posts
मीडिया प्रतिनिधियों से चर्चा में मंत्री श्री कराड़ा ने प्रदेश में माफियाओं के विरूद्ध की जा रही कार्यवाही से अवगत कराया
Image
जबलपुर/समय-सीमा प्रकरणों की समीक्षा बैठक में कलेक्टर ने दिये सीएम मॉनिट से प्राप्त प्रकरणों को प्राथमिकता देने के निर्देश
Image
एमपी में कोरोना मरीजों के इलाज के लिए 60 हजार बिस्तर तैयार, जांच की क्षमता में भी होगी बढ़ोतरी
Image
राजस्व एवं परिवहन मंत्री श्री राजपूत ने बेटियों का किया सम्मान
Image
मध्यप्रदेश/कार्यवाहक मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ राष्ट्रीय अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधीजी से मुलाक़ात कर आज ही 23 मार्च,सोमवार को दिल्ली से भोपाल लौट रहे है
Image