25 साल बाद बने भोपाल के मास्टर प्लान को मुख्यमंत्री की मंजूरी; उपनगरीय क्षेत्र विकसित करने पर जोर रहेगा

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने 25 साल बाद तैयार किए गए भोपाल के मास्टर प्लान को हरी झंडी के लिए इमेज नतीजेभोपाल. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने 25 साल बाद तैयार किए गए भोपाल के मास्टर प्लान को हरी झंडी दे दी है। शनिवार को हुई मीटिंग में चर्चा के बाद कमलनाथ ने प्लान को मंजूरी दी। मुख्यमंत्री की मंजूरी मिलने के नगरीय प्रशासन मंत्री जयवर्धन सिंह एक सप्ताह के अंदर मास्टर प्लान को प्रकाशित कराया जाएगा। इसके बाद एक महीने तक दावे आपत्ति बुलाए जाएंगे। ये प्लान 2031 तक के लिए बनाया गया है। इसके पहले 1995 में मास्टर प्लान बना था, तब भी कांग्रेस की दिग्विजय सरकार थी और 25 साल बाद फिर से जब मास्टर प्लान को मंजूरी मिली है, तब भी कांग्रेस की सरकार है। 


राजधानी भोपाल के मास्टर प्लान का खाका बनकर तैयार हो गया है। इसमें राजधानी के सीमावर्ती क्षेत्रों और उपनगरों के विकास पर जोर दिया गया है। जिसका मुख्यमंत्री कमलनाथ की मौजूदगी में प्रजेंटेशन किया गया है। बैठक में मंत्री जयवर्धन सिंह ने भोपाल का मास्टर प्लान पेश किया।


उपनगरीय क्षेत्रों का विकास करना होगा 


शनिवार को मास्टर प्लान की मीटिंग शुरू होने से पहले पत्रकारों से बातचीत में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि बढ़ती हुई आबादी भोपाल के लिए बोझ है। इसे ढोने के लिए शहर के पास क्या क्षमता है। मास्टर प्लान इस पर आधारित होगा। शहर के विकास की रूपरेखा भी इसी आधार पर तय की जाएगी। आवास 2 फ्लोर से 3 फ्लोर के बना दें, यह पुरानी बात है। हमें भोपाल और देश के बड़े शहरों को सुरक्षित रखना है, इसलिए जरूरी है कि हम शहरीकरण के साथ ही उपनगरीयता की बात करें। 


1995 में बना था भोपाल का आखिरी मास्टर प्लान 
नगरीय प्रशासन मंत्री जयवर्धन सिंह ने कहा कि जिस तरह तेज गति से भोपाल शहर की वृद्धि हुई है, इसलिए अब ज़रूरी है भोपाल के लिए व्यवस्थित मास्टर प्लान बनाया जाए। आखिरी मास्टर प्लान 1995 में बना था, उस समय प्रदेश में कांग्रेस की सरकार थी, उसे 2005 तक के लिए बनाया गया था। मास्टर प्लान बनाने के भाजपा सरकार को दो बार अवसर मिला, लेकिन वह नहीं बना पाए। कांग्रेस की सरकार बनी तो हमने भोपाल का मास्टर प्लान का बनाने का संकल्प लिया था। मास्टर प्लान में आसपास के गांवों को जोड़ने की योजना है। इसे 2031 को ध्यान मे रखते हुए तैयार किया जा रहा है। 


मास्टर प्लान में ये भी होगा खास - 



  • 25 साल पहले 1995 में आखिरी बार मास्टर प्लान बना था, जो 2005 तक के लिए था। 

  • पिछला मास्टर प्लान भी कांग्रेस सरकार में बना था और अब फिर से कांग्रेस सरकार ही इसे लेकर आ रही है।

  • दावा किया जा रहा है कि नए मास्टर प्लान 2031 में राजधानी भोपाल को आधुनिक स्वरूप दिया जा सकेगा। 

  • बंगलौर और मुंबई जैसे बड़े शहरों की तर्ज पर ट्रांसफरेबल डेवलपमेंट राइट्स (टीडीआर) दी जाएगा। 

  • टीडीआर में जमीन का उपयोग करने पर सरकार मुआवजे के रूप में कैश नहीं देगी। जमीन देगी या ऊपर घर बनाने की अनुमति। 

  • मिक्स्ड लैंड यूज की व्यवस्था की गई है। इसके तहत स्कूल, घर, बाजार और हॉस्पिटल को एक ही जगह बनाया जाएगा।


Popular posts
मीडिया प्रतिनिधियों से चर्चा में मंत्री श्री कराड़ा ने प्रदेश में माफियाओं के विरूद्ध की जा रही कार्यवाही से अवगत कराया
Image
जबलपुर/समय-सीमा प्रकरणों की समीक्षा बैठक में कलेक्टर ने दिये सीएम मॉनिट से प्राप्त प्रकरणों को प्राथमिकता देने के निर्देश
Image
जबलपुर / संतों के साथ मिली सरकार, कुंभ का सपना हुआ साकार नर्मदा गौ-कुंभ: राज्य सरकार के प्रयासों को विशिष्ट संतों की मिल रही सराहना, संतों ने कहा, सरकार का ये प्रयास पूरे देश के लिये अनुकरणीय
Image
राजस्व एवं परिवहन मंत्री श्री राजपूत ने बेटियों का किया सम्मान
Image
मध्यप्रदेश/कार्यवाहक मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ राष्ट्रीय अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधीजी से मुलाक़ात कर आज ही 23 मार्च,सोमवार को दिल्ली से भोपाल लौट रहे है
Image