आगर-मालवा/महिलाएं स्व-सहायता समूहों से जुड़कर आत्म निर्भर बनें - प्रभारी मंत्री श्री सिंह समारोह में 2 करोड़ 89 हजार रुपए के बैंक लिंकेज एवं 1 करोड़ 41 लाख रुपए के हितलाभ का वितरण

  जिले के प्रभारी मंत्री तथा प्रदेश के नगरीय विकास एवं आवास विभाग मंत्री श्री जयवर्द्धन सिंह ने कहा कि प्रदेश सरकार की मंशा है कि महिलाएं स्व-सहायता समूहों से जुड़कर आत्म निर्भर बनें। शासन की मंशा के अनुरूप जिले की महिलाएं राष्ट्रीय अजीविका मिशन अन्तर्गत स्व-सहायता समूहों का गठन कर उत्पादों का निर्माण कर अपनी एक अलग पहचान बनाए। शासन स्तर से समूहों को जो हितलाभ मिलना है, उसका पूरा फायदा उन्हें दिया जाएगा। प्रभारी मंत्री श्री सिंह शुक्रवार को पुरानी कृषि उपज मंडी आगर में आयोजित हितलाभ वितरण कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। प्रभारी मंत्री ने कहा कि पूर्व में जो समूह जिले में क्रियाशील है, उन्होंने अपने उत्पादों को एक अलग ब्राण्ड देकर अलग पहचान बनाई और आत्मनिर्भर बनी है। उनसे प्रेरणा लेकर अन्य महिलाएं भी समूहो से जुडें।
    प्रभारी मंत्री श्री सिंह ने समारोह में मध्यप्रदेश डे राज्य ग्रामीण अजीविका मिशन अन्तर्गत 2 करोड़ 89 हजार रुपए के बैंक लिंकेज एवं राष्ट्रीय शहरी अजीविका मिशन अन्तर्गत नगर पालिका परिषद् आगर द्वारा 1 करोड़ 41 लाख रुपए के हितलाभ का वितरण किया गया।
  



 कार्यक्रम का शुभारम्भ प्रभारी मंत्री श्री सिंह द्वारा माँ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्वलन कर किया गया। इस अवसर पर कलेक्टर श्री संजय कुमार, पुलिस अधीक्षक श्री मनोज कुमार सिंह, पूर्व मंडी अध्यक्ष एवं जिला कांग्रेस अध्यक्ष श्री बाबूलाल यादव, श्री दुर्गाप्रसाद पालीवाल, एनएसयूआई प्रदेश अध्यक्ष श्री विपिन वानखेड़े, जिला पंचायत उपाध्यक्ष श्री देवकरण गुर्जर, श्री शीतल जैन, पिन्टू जायसवाल, शंकर सिंह गरबड़ा, श्री पारस जैन, श्री शमीउल्लाखान, संयुक्त संचालक नगरीय प्रशासन उज्जैन श्री एस के देवाल, अजीविका मिशन के प्रबंधक रीना कुमारिया, सीएमओ आगर श्री जाट सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण एवं अधिकारी मौजूद रहे।
        प्रभारी मंत्री श्री सिंह ने कहा कि शासन द्वारा विधवा एवं वृद्धावस्था पेंशन बढ़ाकर दोगुनी कर दी गई है। पेंशन राशि बढ़ने से लाभ प्राप्त करने वाली महिलाओं की आर्थिक स्थिति सुदृढ़ हुई है। प्रभारी मंत्री ने कहा कि जिले के युवाओं को निःशुल्क कौशल उन्नयन कर उन्हें स्व-रोजगार से जोड़ कर आत्मनिर्भर बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि जिले का ग्राम जलसमूह प्रदाय योजना में चयन हुआ है। जिससे जिले के दूर-दूर तक के गांवों में नल कनेक्शन से गुणवत्तापूर्ण जल प्रदाय होगा। उन्होंने कहा कि गांवों में माता-बहने को दूर-दूर से पानी लाना होता था, लेकिन योजना का क्रियान्वयन होने से उन्हें इस समस्या से छुटकारा मिलेगा। गांवों में टंकियों का निर्माण करवाकर फिल्टर प्लांट लगवाएं जाएंगे, जिससे लोगों का शुद्ध जल मिलेगा।
    कार्यक्रम को एनएसयूआई प्रदेश अध्यक्ष श्री विपिन वानखेड़े ने भी सम्बोधित किया। कार्यक्रम की रूपरेखा अजीविका मिशन के डॉ. कुल्मी द्वारा रखी गई। कार्यक्रम संचालन श्री रजनीश स्वर्णकार द्वारा किया गया।


Popular posts