भाेपाल / बड़े तालाब और कोलांस को बचाने कैचमेंट के 240 हेक्टेयर में होगी फल-फूल और मसालों की खेती, 51 हजार 330 पौधे भी राेपेंगे

  • अब तक 15 से ज्यादा छोटे पॉन्ड बनाए, तीन चैक डैम भी तैयार

  • उद्यानिकी विभाग के अफसरों नेे तैयार किया प्लान, अमल भी शुरू

  • ऐसे 16 रिचार्ज शाफ्ट बनाए गए हैं। इसके बनने से बारिश का पानी बोर के जरिए जमीन के भीतर जाएगा। इससे क्षेत्र में जलस्तर बना रहेगा।

  • ऐसे 16 रिचार्ज शाफ्ट बनाए गए हैं। इसके बनने से बारिश का पानी बोर के जरिए जमीन के भीतर जाएगा। इससे क्षेत्र में जलस्तर बना रहेगा। के लिए इमेज नतीजेभोपाल. बड़े तालाब और कोलांस नदी के संरक्षण के लिए 15 से ज्यादा छोटे पॉन्ड, 3 चैक डैम बनाए गए हैं। यह जानकारी शनिवार को बैठक में उद्यानिकी विभाग के अफसरों ने कलेक्टर को दी। बैठक में फैसला लिया गया कि मिट्‌टी का कटाव रोकने के लिए इस साल तालाब और कोलांस के कैचमेंट एरिया के 90 हेक्टेयर में 51 हजार 330 फलदार पौधे रोपे जाएंगे। 100 हेक्टेयर में मसाले और सब्जियों की खेती होगी। 50 हेक्टेयर में फूलों की खेती होगी। बैठक में बताया कि 15 से ज्यादा बरसाती नालों की सफाई काम पूरा कर लिया गया है। इसके लिए 16 रिचार्ज शाफ्ट बनाए गए हैं। इस पूरे प्लान का प्रस्ताव कलेक्टर द्वारा शासन की मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। भोपाल और सीहोर का कैचमेंट एरिया 30,500 हेक्टेयर है। इसमें भोपाल का 14 हजार 400 हेक्टेयर शामिल हैं। कैचमेंट एरिया में भोपाल के 64 और सीहोर जिले के 24 गांव शामिल हैं।

  • 15 से ज्यादा बरसाती नालों की हो चुकी है अब तक सफाई 

  • 64 गांव भोपाल के, 24 गांव सीहोर के कैचमेंट एरिया में शामिल

  • 03 चैक डैम बनकर तैयार, 10 और बन जाएंगे इस साल में 

  • 16 से ज्यादा रिचार्ज शाफ्ट बनाए, ताकि जलस्तर बना रहे

  • जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए 50 कम्पोस्ट यूनिट भी लगाई जाएंगीउद्यानिकी विभाग के सहायक संचालक बीएस कुशवाहा ने बताया कि कैचमेंट के अन्य 50 हेक्टेयर में फूलों की खेती होगी। 100 हेक्टेयर में सब्जी और मसालों की खेती होगी। जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए 50 वर्मी कम्पोस्ट यूनिट लगाई जाएगी। इसके लिए करीब 1 हजार किसानों को ट्रेनिंग दी जाएगी। इस प्रोजेक्ट पर 30 लाख रुपए खर्च होंगे।41 गांव के किसानों को जैविक खेती के लिए करेंगे जागरूक
    कलेक्टर ने बताया कि दोनों के कैचमेंट में बसे करीब 41 गांवों के किसानों को जैविक खेती करने की सलाह दी जाएगी। उन्हें स्पेशल ट्रेनिंग दी जाएगी। बड़े तालाब और कोलांस नदी के किनारे 64 गांव बसे हैं, जिसमें 41 गांव भोपाल जिले के हैं। इन गांवों में खुरचनी, कोदिया, कोलूखेड़ी, लाखपुर, लसूड़िया घाट, मालीखेड़ी, मीरपुर, मुंडला, मुंगालिया छाप, नंदनी, नरेला आदि शामिल हैं।

    शासन की मंजूरी के बाद होगा कामकैचमेंट एरिया में फलदार पौधे रोपे जाएंगे। सब्जी और फूलों की खेती भी होगी। शासन की मंजूरी के लिए प्रस्ताव तैयार कर लिया गया है। एक दो दिन में यह प्रस्ताव मंजूरी के लिए भेजा जाएगा।    तरुण पिथोड़े, कलेक्टर





Popular posts
मीडिया प्रतिनिधियों से चर्चा में मंत्री श्री कराड़ा ने प्रदेश में माफियाओं के विरूद्ध की जा रही कार्यवाही से अवगत कराया
Image
जबलपुर/समय-सीमा प्रकरणों की समीक्षा बैठक में कलेक्टर ने दिये सीएम मॉनिट से प्राप्त प्रकरणों को प्राथमिकता देने के निर्देश
Image
जबलपुर / संतों के साथ मिली सरकार, कुंभ का सपना हुआ साकार नर्मदा गौ-कुंभ: राज्य सरकार के प्रयासों को विशिष्ट संतों की मिल रही सराहना, संतों ने कहा, सरकार का ये प्रयास पूरे देश के लिये अनुकरणीय
Image
राजस्व एवं परिवहन मंत्री श्री राजपूत ने बेटियों का किया सम्मान
Image
मध्यप्रदेश/कार्यवाहक मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ राष्ट्रीय अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधीजी से मुलाक़ात कर आज ही 23 मार्च,सोमवार को दिल्ली से भोपाल लौट रहे है
Image