इंदौर/स्वास्थ्य मंत्री माॅब लिंचिंग पीड़ितों से मिलने अस्पताल पहुंचे, एक-एक लाख रुपए की सहायता राशि सौंपी

इंदौर. स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने बुधवार को चोइथराम हाॅस्पिटल पहुंचकर के लिए इमेज नतीजेइंदौर. स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने बुधवार को चोइथराम हाॅस्पिटल पहुंचकर धार के मनावर में हुई मॉब लिंचिंग घटना के पीड़ितों को सहायता राशि के चेक दिए। इस दौरान उन्होंने घायलों से बात कर अस्पताल में उनके लिए की गई व्यवस्था के बारे में पूछा। इस पर पीड़ितों ने कहा कि उन्हें अस्पताल में बेहतर इलाज मिला है। पीड़ितों को मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान मद से एक-एक लाख रुपए की राशि दी गई है। 


यह है मामला
उज्जैन जिले के लिंबी पिपलिया गांव के पांच खेत मालिकों ने खड़किया के कुछ लोगों को मजदूरी के लिए रखा था। इसके एवज में 50 हजार रुपए एडवांस भी दिए थे। कुछ दिन मजदूरी करने के बाद ये लोग भाग गए। इसी राशि को लेने के लिए खेत मालिक दो कारों में सवार होकर 5 फरवरी को मनावर के खड़किया पहुंचे थे। यहां ग्रामीणों ने पत्थरों से उन पर हमला कर दिया। वे जान बचाकर मनावर के बोरलाय गांव पहुंचे तो खड़किया के लोगों ने फोन कर अफवाह फैला दी कि वे बच्चा चोरी कर भागे हैं। हाट बाजार होने से बरलाय में काफी भीड़ थी।


उन्होंने किसानों की गाड़ियां देखते ही लाठी और पत्थरों से हमला कर दिया। 500 से ज्यादा लोगों की भीड़ ने बेरहमी से दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। किसी ने भी मदद नहीं की। लोग वीडियो बनाते रहे। एक कार के चालक गणेश पिता मनोज पटेल को गंभीर हालत में बड़वानी रैफर किया गया, जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। जगदीश राधेश्याम शर्मा (45), नरेंद्र सुंदरलाल शर्मा (42), विनोद तुलसीराम मुकाती (43), रवि पिता शंकरलाल पटेल (38) को इंदौर लाया गया था।


Popular posts