महाराष्ट्र / सीएम उद्धव बोले-शिवसेना और राकांपा को पहले ही साथ आना चाहिए था, जनता के विकास के लिए एकजुट हुए

सीएम ने किले में आयोजित हुए पालना समारोह में भी हिस्सा लिया के लिए इमेज नतीजेपुणे. महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने बुधवार को कहा कि महाराष्ट्र की जनता की भलाई के लिए शिवसेना और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी को बहुत पहले साथ आना चाहिए थे। उद्धव बुधवार को मराठा साम्राज्य के संस्थापक छत्रपति शिवाजी महाराज की 390वीं जयंती पर पुणे के जुन्नार तालुका स्थित शिवनेरी किले में श्रद्धांजलि अर्पित करने पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने किले के निर्माण के लिए 23 करोड़ रुपये देने की घोषणा भी की। 


हम महाराष्ट्र की जनता के विकास के लिए साथ आये हैं: उद्धव  
सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा,'हम, अजीत-दादा (पवार) और मैं (शिवसेना) अनावश्यक रूप से कई वर्षों से अलग क्यों रहे? हमें पहले बहुत एकजुट होना चाहिए था। लेकिन अब जब हम एक साथ हैं, मैं लोगों को विश्वास दिलाता हूं कि हम (महाविकास अघाड़ी सरकार) तब तक आराम नहीं करेंगे, जब तक कि हम राज्य का विकास नहीं करते हैं।" ठाकरे की बात सुनकर वहां मौजूद लोग तालियां बजाने लगे। 


शिवाजी महाराज का जन्म 19 फरवरी 1630 को शिवनेरी दुर्ग में हुआ था। ठाकरे ने वहां पालना समारोह में हिस्सा लिया और किले में विकास कार्य का मुआयना करने के बाद कहा, 'गरीब और जरूरतमंदों को लगता है कि यह उनकी सरकार है। इसलिए इतनी ज्यादा संख्या में लोग शिव जयंती के कार्यक्रम में यहां पहुंचे हैं। हमारी सरकार छत्रपति शिवाजी महाराज की विरासत को आगे ले जाने के लिए प्रतिबद्ध है।'


मराठा प्रदर्शनकारियों पर दर्ज मामले होंगे वापस
उन्होंने कहा कि छत्रपति शिवाजी महाराज के किले और संग्रहालय को संरक्षित करने के लिए हर कदम उठाया जाएगा। उन्होंने कहा, हम सुनिश्चित करते हैं कि कोष की कोई कमी नहीं आएगी। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि 2018 के मराठा आरक्षण आंदोलन के दौरान प्रदर्शनकारियों के खिलाफ दर्ज मामलों को वापस ले लिया जाएगा। शिवसेना प्रमुख ने इससे पहले ट्विटर पर भी शिवाजी को श्रद्धांजलि दी और शिव जयंती पर राज्य के लोगों को शुभकामनाएं दीं। 


Popular posts