बोस्टन शहर स्थित वैक्सीन बनाने वाली बायोटेक कंपनी मॉडर्ना का इंसानों पर वैक्सीन का सफल ट्रायल,


कोरोना वायरस के कारण दुनिया के करीब 200 देशों में फैली महामारी कोविड-19 को रोकने के लिए सभी को वैक्सीन का इंतजार है। इसके लिए कई देशों में शोध हो रहे हैं और कई जगह इसका जानवरों और इंसानों पर क्लिनिकल ट्रायल भी चल रहा है। इस बीच अमेरिका से उम्मीद भरी एक बड़ी खबर आई है, जहां कोरोना वैक्सीन के इंसानों पर ट्रायल के सकारात्मक नतीजे सामने आए हैं। बोस्टन शहर स्थित वैक्सीन बनाने वाली बायोटेक कंपनी मॉडर्ना के मुताबिक इंसानी शरीर पर वैक्सीन के पहले फेज का ट्रायल सफल हुआ है। जिन लोगों पर इसका ट्रायल किया गया, उनके शरीर की इम्यूनिटी बढ़ी है और इसके बहुत मामूली साइड इफेक्ट सामने आए हैं। 


मॉडर्ना ने शुरुआती चरण के ट्रायल के सकारात्मक परिणामों के बारे में बताया है कि mRNA-1273 नाम की यह वैक्सीन जिसे दी गई है, उसके शरीर पर मामूली साइडइफेक्ट हुआ, जबकि वैक्सीन का प्रभाव सुरक्षित पाया गया। कंपनी का दावा है कि वैक्सीन लगाए गए इंसान की इम्यूनिटी कोविड-19 से रिकवर हो चुके मरीजों के बराबर या उनसे ज्यादा ताकतवर पाई गई।



जेनिफर हॉलर


सबसे पहले दो बच्चों की मां को लगाई गई थी वैक्सीन
मालूम हो कि 16 मार्च को सिएटल की काइजर परमानेंट रिसर्च फैसिलिटी में यह वैक्सीन सबसे पहले दो बच्चों की मां 43 वर्षीय महिला जेनिफर को लगाया गया था। पहले फेज के इंसानी ट्रायल में 18 से 55 वर्ष की उम्र के 45 स्वस्थ प्रतिभागी शामिल किए गए थे, जिनमें से शुरुआत में आठ लोगों को यह वैक्सीन दी गई थी। 


अगले चरण के लिए एफडीए ने दी अनुमति 
अमेरिका में शीर्ष दवा नियामक फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने कंपनी को टीके के अगले चरण के ट्रायल के लिए अनुमति दे दी है। कंपनी का दावा है कि मॉर्डना पहली अमेरिकी कंपनी है, जिसने सबसे पहले वैक्सीन बनाने में इतनी बड़ी उम्मीद दिखाई है। 


     
महज 42 दिनों में दिखी बड़ी उम्मीद
कंपनी ने वैक्सीन के लिए जरूरी जेनेटिक कोड से लेकर इंसानों पर ट्रायल तक का सफर महज 42 दिनों में पूरा कर लिया। ऐसा पहली बार हुआ कि जानवरों से पहले इंसानों में ट्रायल शुरू किया गया था। 


शुरुआती चरण में मामूली साइड इफेक्ट्स
मॉडर्ना कंपनी के मुख्य चिकित्सा अधिकारी टाल जकस के मुताबिक, नतीजों से पता चला है कि वैक्सीन की थोड़ी मात्रा ने भी सामान्य संक्रमण से मुकाबले के लिए इम्यूनिटी बढ़ाने में बेहतर परिणाम दिया है। इन नतीजों के बाद मिले डेटा के आधार पर कंपनी अब आगे का ट्रायल करेगी। उन्होंने कहा कि इस mRNA-1273 वैक्सीन में कोविड -19 को रोकने की क्षमता है।


 


Popular posts
मीडिया प्रतिनिधियों से चर्चा में मंत्री श्री कराड़ा ने प्रदेश में माफियाओं के विरूद्ध की जा रही कार्यवाही से अवगत कराया
Image
जबलपुर/समय-सीमा प्रकरणों की समीक्षा बैठक में कलेक्टर ने दिये सीएम मॉनिट से प्राप्त प्रकरणों को प्राथमिकता देने के निर्देश
Image
जबलपुर / संतों के साथ मिली सरकार, कुंभ का सपना हुआ साकार नर्मदा गौ-कुंभ: राज्य सरकार के प्रयासों को विशिष्ट संतों की मिल रही सराहना, संतों ने कहा, सरकार का ये प्रयास पूरे देश के लिये अनुकरणीय
Image
राजस्व एवं परिवहन मंत्री श्री राजपूत ने बेटियों का किया सम्मान
Image
मध्यप्रदेश/कार्यवाहक मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ राष्ट्रीय अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधीजी से मुलाक़ात कर आज ही 23 मार्च,सोमवार को दिल्ली से भोपाल लौट रहे है
Image