ब्राजील बन गया अब दुनिया का दूसरा सबसे ज्यादा संक्रमण से प्रभावित देश; संक्रमितों की संख्या के मामले में रूस को भी छोड़ दिया पीछे


ब्राजील ने कोरोना संक्रमितों की संख्या के मामले में रूस को भी पीछे छोड़ दिया है और अब दुनिया का दूसरा सबसे ज्यादा संक्रमण से प्रभावित देश बन गया। ब्राजील के साओ आलो शहर के सबसे बड़े कब्रिस्तान में लाशें दफनाने की जगह नहीं है।


यहां बीते 24 घंटे में संक्रमण के करीब 20,000 नए के सामने आए हैं। ब्राजील में अब तक संक्रमण के कुल 3,47,398 मामले सामने आए हैं और 21 हजार से भी ज्यादा लोगों की मौत हो गई है।


हालत ये है ब्राजील के कब्रिस्तानों में लाशें दफनाने की जगह नहीं बची है। ये तस्वीर बता रही है कि ब्राजील में हालात किस कदर बेकाबू हो गए हैं। इस जगह पर पीपीई किट पहने कर्मचारी शवों को दफनाने का काम कर रहे हैं। मृतकों का कोई भी परिजन आसपास दिखाई नहीं दे रहा है। 


एक तरफ लाइन से शव रखे हुए हैं और दूसरी तरफ कब्र खोदने का काम जारी है। सभी कब्रें ताजा दिख रही हैं यानी रोजाना सैकड़ों की संख्या में शव को दफनाया जा रहा है। पास में ही एक संकरी सड़क पर एंबुलेंस खड़ी है। 
 
जगह की इस कदर कमी हो गई है कि कब्रों को बिल्कुल आसपास खोदा जा रहा है और कोरोना का शिकार हुए लोगों को इनमें दफनाया जा रहा है। इस तस्वीर को देखकर ऐसा लगता है कि सड़क की दूसरी तरफ कब्रिस्तान है, लेकिन वहां जगह नहीं होने के कारण शवों को नई जगह पर दफनाया जा रहा है। इन कब्रों को उपर ताजा फूल भी रखे हैं जो जाहिर तौर पर इनके परिजनों ने ही भिजवाए हैं। 


ऐसे हो चुके हैं हालात 


हालात को ऐसे समझा जा सकता है कि मरियो डि जेनेरियो शहर में 62 वर्षीय व्यक्ति की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई। उनका शव पार्किंग के बीच पड़ा रहा। स्थानीय लोगों के मुताबिक, क्लिनअर डि सिल्वा नाम के शख्स को सांस लेने में दिक्कत होने पर एंबुलेंस को फोन किया गया। जब तक एंबुलेंस आई, उनकी हालत और ज्यादा बिगड़ चुकी थी। एंबुलेंस आने तक उनकी मौत हो चुकी थी। ऐसे में एंबुलेंस ने उनके शव को ले जाने से इनकार कर दिया। 30 घंटे बाद शव का अंतिम संस्कार कराने वाली टीम ने उनके शव को वहां से हटाया।



ब्राजील में इन दिनों अस्पतालों और कब्रिस्तान में लाशों का ढेर लगा हुआ है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि दक्षिण अमेरिका महामारी का नया केंद्र बन गया है दक्षिण अमेरिकी देश ब्राजील कोविड-19 की महामारी से सबसे ज्यादा देशों में से एक है। ब्राजील में विपक्ष और कई बड़े वैज्ञानिकों का मानना है कि ब्राजील में यह स्थिति राष्ट्रपति जैर बोलसोनारो के अड़ियल रवैये के चलते पैदा हुई है।


डॉक्टर ने कहा-अस्पतालों में बेड ही नहीं


ब्राजील दुनिया में ऐसा छटा देश है जहां पर कोविड-19 के कारण 21,000 से अधिक मौतें हुई हैं और चेतावनी भी जारी की गई है कि यह संकट अभी तक अपने उच्चतम स्तर तक नहीं पहुंचा है। इसके बावजूद राष्ट्रपति जैर बोलसोनारो ने स्थिति की गंभीरता को कम करने का प्रयास किया है। उत्तरी ब्राजील के एक अस्पताल में नर्स जोआओ आलो ने बताया कि अमेजन प्रांत मैं मनौस सिर्फ ऐसी जगह है जहां पर आईसीयू है और यहां पर सभी लोगों के लिए बेड नहीं है। इसके कारण बहुत लोग मर रहे हैं। 


कुल मरीजों का आंकड़ा  3,49,113


अमेरिका के बाद सबसे अधिक संक्रमितों की संख्या हो गई है। ब्राजील में कुल मरीजों का आंकड़ा  3,49,113  हो गया है। लैटिन अमेरिकी देश में अब तक 22 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि विशेषज्ञों का कहना है कि यह आंकड़ा इससे कहीं ज्यादा हो सकता है। यहां हालात इतने खराब हैं कि कोरोना संक्रमित व्यक्ति का शव 30 घंटे तक सड़क पर पड़ा रहा, लेकिन उसे उठाने कोई नहीं आया।


ब्राजील के स्वास्थ्य मंत्रालय ने बीते 24 घंटे में 1001 लोगों की मौत की पुष्टि की। ब्राजील में संक्रमण के प्रकोप के बीच यह बहस चल रही है कि वायरस को फैलने से रोकने के लिए लागू लॉकडाउन में ढील दी जाए या पाबंदियों को और सख्त किया जाए।
 
जर्मनी में प्रार्थना सभा के बाद संक्रमण बढ़ा


अमेरिका में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि सभी राज्यों को अब चर्च जैसे प्रार्थनाघर खोल देना चाहिए। ये स्थल जरूरी सेवाओं में आते हैं। अमेरिका में रविवार सुबह 10 बजे तक कोरोना के 16,66,828 मामले सामने आए हैं। जबकि 98,683 मौतें हुई हैं। उधर, जर्मनी में फ्रैंकफर्ट की चर्च में प्रार्थना सभा के बाद कई लोग संक्रमित मिले हैं। धार्मिक संगठन इवेंजलिकल क्रिश्चन बाप्टिस्ट के उपप्रमुख व्लादिमीर प्रिट्जकाऊ ने इसकी पुष्टि की है। हालांकि, उन्होंने मरीजों की संख्या नहीं बताई। उन्होंने कहा कि छह लोग अस्पताल में हैं, बाकी घर में ही क्वारंटीन में हैं।


अर्जेंटीना में एक दिन में सबसे ज्यादा 718 मामले


ब्यूनस आयर्स। ब्राजील के पड़ोसी देश अर्जेंटीना में भी कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। सरकार के मुताबिक, शुक्रवार को 718 नए मामले मिले, जो एक दिन में सर्वाधिक हैं। वहीं कुल मामले 10,649 हो चुके हैं, जिनमें से 433 लोगों की मौत हो चुकी है।


रूस में 9 हजार से ज्यादा नए मामले


मास्को। रूस में बीते 24 घंटे में 9,434 नए मामले मिले हैं, जिसके बाद यहां संक्रमितों की संख्या 3,35,882 हो गई है। कोरोना वायरस रिस्पांस सेंटर के मुताबिक, बीते 24 घंटे में रूस में 139 लोगों की जान गई है। देश में अब तक 3,388 लोगों की मौत हो चुकी है।


पाकिस्तान में 52 हजार के पार मरीज


इस्लामाबाद। पाकिस्तान में कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की संख्या 52 हजार को पार कर गई है। इस बीच, विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि अगर लोगों ने सुरक्षा उपायों का पालन नहीं किया तो मामलों की संख्या तेजी से बढ़ सकती है। पीएम इमरान खान के विशेष सहायक (स्वास्थ्य) जफर मिर्जा ने कहा, पिछले हफ्ते की रिपोर्ट अच्छी नहीं है।


अगर एहतियात नहीं बरती गई तो मामले दोगुने हो सकते हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, पाक में बीते 24 घंटे में 1743 मरीज मिले हैं, जिसके बाद कुल मामलों की संख्या 52,437 हो गई है। वहीं 34 लोगों की मौत के साथ मरने वालों का आंकड़ा 1101 हो गया है। अब तक 16653 लोग ठीक हो चुके हैं।
 
दुनिया में कोरोना की सबसे बड़ी शिकार अमेरिकी महाशक्ति में अर्थव्यवस्था घुटनों के बल आ गई है। अकेले अमेरिका में कुल मरने वालों का आंकड़ा 88,532 पर पहुंच चुका है जबकि कुल संक्रमितों की संख्या 14,84,579 हो गई है। वैश्विक संक्रमण 46.49 लाख के पार होने के बीच अमेरिका ने दुनिया में अब तक का सबसे बड़ा राहत पैकेज पारित कर दिया है। दूसरी तरफ दुनिया में कुल 3,09,047 लोग महामारी से मारे जा चुके हैं।


इंडोनेशिया में संक्रमितों की कुल संख्या 17,025 हुई


दक्षिण पूर्व एशियाई देश इंडोनेशिया में भी कोरोना महामारी का प्रकोप जारी है। जकार्ता में शनिवार को 529 नए कोरोना वायरस संक्रमितों के साथ कुल संख्या 17,025 हो गई है। जबकि मृतकों की कुल संख्या 1,089 पहुंच गई है। इंडोनेशिया के स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि देश में 1,35,726 लोगों की कोरोना वायरस का परीक्षण किया जा चुका है।


ईरान ने व्यापारिक सीमाओं को खोला


ईरान ने अफगानिस्तान को जोड़ने वाली महिरौद और डोगराउन की सीमा को व्यापार के लिए फिर से खोल दिया है। वहीं ईरान-पाकिस्तान सीमा पर स्थित सिस्तान और बलूचिस्तान सीमा को भी खोल दिया गया है। ईरान में संक्रमितों की संख्या कम हुई है इसलिए यहां पर जल्द ही अर्थव्यवस्था खोलने की तैयारी जारी है।


स्लोवेनिया ने खुद को कोरोना मुक्त घोषित किया


स्लोवेनिया पहला ऐसा यूरोपीय देश बन गया है, जिसने खुद के कोरोना मुक्त होने की घोषणा की है। सरकार ने कहा कि कोरोना वायरस देश में पूरी तरह नियंत्रण में है और अब असाधारण स्वास्थ्य उपायों की आवश्यकता नहीं है। यहां की सरकार ने यूरोपीय यूनियन के देशों के लोगों के लिए अपनी सीमाएं खोल दी हैं।


ब्रिटेन : मामलों में आई कमी


अमेरिका, ब्राजील, स्पेन और रूस के बाद ब्रिटेन पांचवा सर्वाधिक कोरोना प्रभावित देश है। यहां एक दिन में 3,560 केस मिले हैं और 384 लोगों की जान गई है। देश में अब तक लगभग 34 हजार लोगों की मौत हो चुकी है और 2.36 लाख लोग संक्रमित हैं। वहीं, स्वास्थ्य मंत्री मैट हैनकॉक ने बताया है कि देश में मरने वालों की संख्या में कमी आ रही है।


इटली में 3 जून से विदेश यात्रा की अनुमति


इटली 3 जून से अंतरराष्ट्रीय यात्रा से प्रतिबंध हटा रहा है। लोग अब इटली में दूसरे देशों से आवाजाही कर सकेंगे। उसी दिन से देश के अंदर फ्री ट्रैवल को भी अनुमति दी जाएगी। इटली में अब तक 31 हजार 610 लोगों की मौत हो गई है। दो लाख 23 हजार 885 संक्रमित हैं। दुनिया में अमेरिका और ब्रिटेन के बाद सबसे ज्यादा मौतें यहीं हुई हैं।


 


 


Popular posts
मीडिया प्रतिनिधियों से चर्चा में मंत्री श्री कराड़ा ने प्रदेश में माफियाओं के विरूद्ध की जा रही कार्यवाही से अवगत कराया
Image
जबलपुर/समय-सीमा प्रकरणों की समीक्षा बैठक में कलेक्टर ने दिये सीएम मॉनिट से प्राप्त प्रकरणों को प्राथमिकता देने के निर्देश
Image
एमपी में कोरोना मरीजों के इलाज के लिए 60 हजार बिस्तर तैयार, जांच की क्षमता में भी होगी बढ़ोतरी
Image
राजस्व एवं परिवहन मंत्री श्री राजपूत ने बेटियों का किया सम्मान
Image
चीन ने कहा- अमेरिका दोनों देशों को नए शीत युद्ध की तरफ धकेल रहा है, हम कोरोनावायरस के सोर्स की जांच के लिए तैयार
Image