कोरोना से जंग में बड़ी कामयाबी, अमेरिकी कंपनी का दावा- 'अस्थाई वैक्सीन' से होगा 100 फीसदी इलाज


कोरोना वायरस का इलाज एंटीबॉडी के जरिए होगा संभव, वैज्ञानिक कर रहे शोध


कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच दुनियाभर के लोगों को इंतजार है तो बस यही कि जल्द से जल्द इसकी वैक्सीन आ जाए। हालांकि वैक्सीन तैयार होना एक लंबी प्रक्रिया होती है और इसमें दुनियाभर के वैज्ञानिक लगे हुए हैं। इसके सकारात्मक परिणाम भी सामने आ रहे हैं। इस्राइल और इटली भी कोरोना की वैक्सीन बना लेने का दावा कर चुके हैं। हालांकि सच्चाई यही है कि कुछ वैक्सीन के ट्रायल का जानवरों पर असर हुआ और उनके शरीर में कोरोना से लड़ने वाली एंटीबॉडी भी तैयार हुई है। अब इंसानों पर ट्रायल चल रहा है।


इस बीच अमेरिका में कोरोना का 100 फीसदी इलाज ढूंढ निकालने का दावा किया गया है। कैलिफोर्निया के शोधकर्ताओं ने ऐसी एंटीबॉडी की खोज की है, जिसके बारे में उन्होंने दावा किया है कि यह 100 फीसदी कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने की क्षमता है।


STI-1499 एंटीबॉडी
कैलिफोर्निया के वैज्ञानिकों ने एंटीबॉडी को STI-1499 नाम दिया है। कैलिफोर्निया की कंपनी सोरेंटो थैराप्यूटिक्स ने न्यूयॉर्क के माउंट सिनाई स्कूल ऑफ मेडिसिन के साथ मिलकर इसकी खोज की है। इस कंपनी का दावा है ये एंटीबॉडी अस्थाई वैक्सीन का काम करेगी।


सोरेंटो थैराप्यूटिक्स कंपनी का दावा है कि वह हर महीने दो लाख एंटीबॉडी का निर्माण कर सकती है। वैक्सीन आने में अभी वक्त है और ये एंटीबॉडी वैक्सीन से पहले उपलब्ध होगी। कंपनी ने लोगों तक एंटीबॉडी पहुंचाने के लिए अमेरिका के फूड और ड्रग प्रशासन से आपातकालीन अनुमति मांगी है। 


एक अंग्रेजी वेबसाइट की रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी के सीईओ डॉ. हेनरी का कहना है कि इंसानी शरीर में वायरस से लड़ने और उसे खत्म करने वाली एंटीबॉडी हो तो सोशल डिस्टेंसिंग की जरूरत नहीं पड़ेगी। उनका कहना है कि कंपनी का लक्ष्य केवल मरीजों का इलाज करना है। 



कोरोना वायरस


ड्रग विशेषज्ञों का कहना है कि यह एंटीबॉडी वायरस को ब्लॉक करता है और इम्यून सिस्टम के लिए अलार्म का काम करती है। कोरोना वायरस का टीका आने में फिलहाल कुछ समय लगने वाला है। ऐसे में ये एंटीबॉडी कोरोना संक्रमण को रोकने में कारगर होगी। कम से कम नए लोगों में तो संक्रमण नहीं फैलेगा।


12 एंटीबॉडी को मिलाकर बनाई दवा
शोधकर्ताओं का कहना है कि इस एंटीबॉडी का ट्रायल अभी इंसानों पर नहीं हुआ है, इसलिए इसे साइड इफेक्ट के बारे में कुछ कह पाना फिलहाल मुश्किल है। कंपनी ने STI-1499 सहित करीब 12 एंटीबॉडीज को मिलाकर दवा तैयार की है। शोधकर्ताओं का दावा है कि यह दवा इंसानी शरीर में पहुंचकर वायरस से लड़ने में सुरक्षा कवच की तरह होगा।


 


Popular posts
मीडिया प्रतिनिधियों से चर्चा में मंत्री श्री कराड़ा ने प्रदेश में माफियाओं के विरूद्ध की जा रही कार्यवाही से अवगत कराया
Image
जबलपुर/समय-सीमा प्रकरणों की समीक्षा बैठक में कलेक्टर ने दिये सीएम मॉनिट से प्राप्त प्रकरणों को प्राथमिकता देने के निर्देश
Image
एमपी में कोरोना मरीजों के इलाज के लिए 60 हजार बिस्तर तैयार, जांच की क्षमता में भी होगी बढ़ोतरी
Image
राजस्व एवं परिवहन मंत्री श्री राजपूत ने बेटियों का किया सम्मान
Image
मध्यप्रदेश/कार्यवाहक मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ राष्ट्रीय अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधीजी से मुलाक़ात कर आज ही 23 मार्च,सोमवार को दिल्ली से भोपाल लौट रहे है
Image