भोपाल /भेल: पहली शिफ्ट में आ रहे कर्मचारी, दूसरी में 33 प्रतिशत उपस्थिति नहीं हो पा रही पूरी


भेल में ठेका श्रमिकों की कमी के कारण रफ्तार नहीं पकड़ पा रहा उत्पादन का काम। भेल कारखाने में पहली शिफ्ट में ही ज्यादा कर्मचारी यानि 33 प्रतिशत तक आ रहे हैं। दूसरी शिफ्ट में तय उपस्थिति में कर्मचारी व ठेका श्रमिक नहीं आ रहे हैं। इससे भेल में उत्पादन संबंधी कार्य रफ्तार नहीं पकड़ पा रहा है। 29 अप्रैल से भेल कारखाना खुला है,



शरीफ खान, डीजीएम (पीआर) भेल


भोपाल : भेल कारखाने में पहली शिफ्ट में ही ज्यादा कर्मचारी यानि 33 प्रतिशत तक आ रहे हैं। दूसरी शिफ्ट में तय उपस्थिति में कर्मचारी व ठेका श्रमिक नहीं आ रहे हैं। इससे भेल में उत्पादन संबंधी कार्य रफ्तार नहीं पकड़ पा रहा है। 29 अप्रैल से भेल कारखाना खुला है, तब ही ठेका श्रमिकों की कमी के चलते कारखाने में काम तेज गति से नहीं हो पा रहा है। ट्रांसफार्मर, टरबाइन व हाइड्रो ब्लॉक को छोड़ दें तो बाकी छह ब्लॉक में उत्पादन संबंधी कार्य धीमी गति से चल रहे हैं। हर साल पहली तिमाही (अप्रैल, मई, जून) में सभी नौ ब्लॉक में 5200 स्थाई कर्मचारी व 7 हजार से ज्यादा ठेका श्रमिक काम करते थे। इस बार 1400 स्थाई कर्मचारी व 700 ठेका श्रमिक कारखाने में ही काम कर रहे हैं। इसमें सुबह 7ः30 से दोपहर 12ः30 बजे की शिफ्ट में उपस्थिति ठीक है। दोपहर 1ः30 बजे रात 9ः30 की शिफ्ट में 33 की जगह 25 प्रतिशत ही कर्मचारी व ठेका श्रमिक आ रहे हैं। कोरोना के भय से कम ही कर्मचारी उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं।


व्यवस्था पूरी, पर काम की रफ्तार नहीं


भेल कारखाने में काम करने वाले कर्मचारियों व ठेका श्रमिकों की थर्मल स्क्रीनिंग, सैनिटाइज, मास्क व साबुन की पूरी व्यवस्था है। सुरक्षित शारीरिक दूरी बना कर भी कर्मचारी व ठेका श्रमिक काम कर रहे हैं, लेकिन मजदूरों की कमी होने से काम रफ्तार नहीं पकड़ पा रहा है। ट्रांसफार्मर, टरबाइन सहित अन्य भारी उपकरणों को बनाने में समय लग रह है। मार्च के पेडिंग ऑर्डर भी पूरी नहीं हो पा रहे हैं।


गाइडलाइन के अनुसार करा रहे काम


केंद्र सरकार की गाइडलाइन के अनुसार 33 प्रतिशत कर्मचारियों की उपस्थिति के साथ ही थर्मल स्क्रीनिंग, मास्क, दस्ताने पहनकर और सैनिटाइज करके ही कर्मचारियों व ठेका श्रमिकों को कारखाने में प्रवेश दिया जा रहा है। मजदूर पलायन कर रहे हैं, इसलिए कमी सिर्फ भेल में ही नहीं सभी जगह है। काम चल रहा है रफ्तार भी पकड़ेगा।


Popular posts
जबलपुर/समय-सीमा प्रकरणों की समीक्षा बैठक में कलेक्टर ने दिये सीएम मॉनिट से प्राप्त प्रकरणों को प्राथमिकता देने के निर्देश
Image
सितंबर तक आएगी कोरोना की वैक्सीन! जानें भारत समेत पूरी दुनिया का अपडेट।
Image
केवी में एडमिशन / केंद्रीय विद्यालय में कक्षा पहली में दाखिले की प्रक्रिया फरवरी से होगी शुरू
Image
मीडिया प्रतिनिधियों से चर्चा में मंत्री श्री कराड़ा ने प्रदेश में माफियाओं के विरूद्ध की जा रही कार्यवाही से अवगत कराया
Image
शराब कारोबारियों के समूह संभालेंगे जिलों की सभी दुकानें; आबकारी नीति में बड़े संशोधन की तैयारी शुरू
Image